Followers

Tuesday, 27 February 2018

'वो'



                         अनंत ख़ामोशी
                         अपलक चाँदनी
                         कसक  चैत्र की
                         जंगल में खिले
                         मादक महुए से
                         हो कभी मिले?







20 comments:

  1. Replies
    1. धन्यवाद राजीव:)

      Delete
  2. Replies
    1. Thankyou Kokila:) I tried to write in rhyme..

      Delete
  3. इक कसक सी उठी :( ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. लिखना सफल हुआ:) शुक्रिया मनीषा:)

      Delete
  4. अहा , बहुत खूब अमित जी !! शानदार क्षणिका

    ReplyDelete