Followers

Wednesday, 21 November 2018

Prayer



O my Lord
Please grant me 
Some prolongation
No, I’m not afraid of death
And definitely wish to
Submerge forever in
The silent relief
Of your cool comfort
But still
Just for a little while more
Let me experience this
Heartless callous world
So that
I don’t feel like
Coming here again!

                    Linked to: Poets United


Thursday, 8 November 2018

Reading fiction



Opened an old novel
Memories came alive
A dried-up rose!


                                                                                                         (Image from Google)


Disclaimer: I’m not calling it a haiku

                                                                     Linked to: Poets United

           
                                                                                 

Wednesday, 31 October 2018

Dodo



Water water everywhere
Not a drop on its wing
Golden dodo soars high
In dark gray sky
Worry not give time
Damp patch to dry
On the ceiling
And on the lung
May it sound funny, honey
But what really matters
Is money


Image from Google

Linked to: Poets United: Money




Wednesday, 24 October 2018

Coma

                                                     
                                                     
                                                               Memories’ quartz
Dust of time,
Quiet flows
Rivulet of images,
Ardours plash
And feelings gale,
Dreams murmur
Desires stretch.
Between us but
Icicles in coma!


(Image by Google)

Linked to: Poets United: Winter

Tuesday, 2 October 2018

You are missed




The wind is naughty today again
feebly teasing sometimes
uncouthly caressing the chime
And it is responding too
not in rapturous pleasure
but in painful sighs
They feel your absence
and miss you perhaps.
Or do I?

Linked to: Poets United
Linked to: ABC Wednesday: M is for Memories

Sunday, 4 March 2018

क्रश / Crush



मन एकाकी प्यासा
मौसम की अठखेलियाँ
मैं  हूँ इन पर मरता

Ache lonely listless
Tantrums of Elements
I adore You!



*True that tantrums and  अठखेलियाँ  are not synonymous but a mere translation couldn’t have replaced the other here..


Tuesday, 27 February 2018

'वो'



                         अनंत ख़ामोशी
                         अपलक चाँदनी
                         कसक  चैत्र की
                         जंगल में खिले
                         मादक महुए से
                         हो कभी मिले?







Sunday, 4 February 2018

शैतान

Image from Google

कुछ सहस्राब्दियों बाद
शैतान को फिर से 
ख़ुराफ़ात सूझी
लेकिन वो जानता था
कि आदम और हौव्वा 
अब भोले नहीं रहे
जो साँप और सेब  के
चक्कर में जाएँ.

वो ख़ुद भी 
शातिर हो चला था
समय के साथ
सो अबकी उसने सोचा
कि 'अक़्ल' तो
अभिशाप कम 
वरदान ज़्यादा
सिद्ध हुई कालान्तर में ;
क्यों इन्सान की
इसी अक़्ल से
एक ऐसा तोहफ़ा
बनवाया जाए
जो साबित हो सके उसका
स्थाई चिरंतन नाश!

इस बार
वो कोई चांस नहीं
लेना चाहता था
सो उसने
ख़ूब सोच समझ कर
प्लास्टिक पैदा कर दिया
और लगा इंतज़ार करने
अपनी योजना के
परवान चढ़ने का
कुटिल मुस्कान के साथ.

बस फिर कुछ ही दशकों में
शनैः शनैः
उसके ज़हरीले दाँत
काले कुरूप होठों से
निकल कर दिखने लगे
मुस्कुराहट फैलती गई...

डेढ़ सदी ख़त्म होते होते
धरती बंजर होने लगी
हवा विषाक्त
समुद्रों, नदियों, झीलों, झरनों
के दम घुटने लगे
मछली, चिड़ियाँ, पशु
बेहिसाब मरने लगे
और अक़्लमंद इंसान
हाँफ़ते खाँसते
सिसकते बिलखते
धरती पर से
समस्त जीवन लुप्त होना
देखता रह गया...

शैतान अट्टहास कर उठा !!