Followers

Friday, 11 December 2015

भाईचारा


जानता हूँ मैं कि
तुम उच्च-वर्गीय कुलीन
शैम्पू-पाउडर से गमकते
घूमते हो मर्सिडीज़ में
और मैं खुजैला अपाहिज
जिसके होंगे कई बाप
मक्खियों से भिनकता
रहता हूँ हलवाई के नीचे की
नाली में.

हाँ, मानता हूँ मैं कि
तुम रहते हो
खूबसूरत मालकिन के
एयर-कंडीशन्ड बँगले में, बाँहों में
और मैं उस दिन को
खुशकिस्मत मानता हूँ
जब मुझे दस बीस
लात-डण्डे न पड़ें.

तुम्हारा मूड बिगड़ जाता है
जब मालकिन जाती है विदेश
हफ्ते दस दिन को
हो जाते हो तुम गुमसुम
और इम्पोर्टेड न्यूट्रिशन  खाने में
करते हो नख़रे
मैं भी तो हो जाता हूँ
थोड़ा कटखना
जब जूठे दोने-पत्तल
नहीं मिलते दंगे के दिनों में.

मुझे तुमसे प्यार नहीं :
तुम कहाँ-मैं कहाँ
न ही रश्क़ है मुझे तुमसे :
क़िस्मत अपनी-अपनी,
पर फिर भी
तुम्हारा आदर करता हूँ मैं
क्योंकि हमारी नस्लें
जुदा होते हुए भी
हैं तो आख़िर हम कुत्ते ही !

न जाने तुम
मुझसे घृणा क्यों करते हो..


Image courtesy: Google


26 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (12-12-2015) को "सहिष्णु देश का नागरिक" (चर्चा अंक-2188) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आदरणीय डॉ. शास्त्री.. आभार!

      Delete
  2. Replies
    1. Glad you liked this Beagle from Google:) Thank you Linda:)

      Delete
  3. Nice title for the poem; class differences here are as pronounced as in humans.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Wonder whether we learnt it from them or they from us:) Thank you Somali:)

      Delete
  4. Great lines and what a cute doggie!

    ReplyDelete
  5. Something ahead of just 'human focused' thinking. Aapne kotne creatively ye socha ki kutton ka sath b aisa ho skta h. Very nice.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Aisa hi hai! Kabhi mauka padey to iss tarah ke do kutton ko aamne-saamne dekhna...ek ki aankhon mein upeksha aur doosre ki aankhon mein hikaarat saaf dikhai degi:(
      Thank you Shraddha:):)

      Delete
  6. made me smile....the way you put the differences elaborately and the underlying similarity that cannot be done with in just one line made it just superb...!

    ReplyDelete
    Replies
    1. You got to the essence Sunaina..I am delighted!
      Thanks a whole lot for putting it in words here:):)

      Delete
  7. Discrimination, which is drawing a line between human beings. So nicely written with an example of dog. "हैं तो आख़िर हम कुत्ते ही"

    ReplyDelete
  8. Exactly! Glad that you got it right:)
    Thanks loadz, Ranjana:)

    ReplyDelete
  9. Bahut badhiya likha hai particularly the last lines, hain tho hum kutte hi. Sadiyon ke baad ab farq dheere dheere mit gaya hai kyunke unki jaisi soch aur akhl ho gayi hai. Unhi ke jaise jeene lage hain insaan.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Glad you liked:) Thank you Fayaz:)

      Delete
  10. insaanon ke faasle pahuche abol kutton tak...sach kaha kiski vrutti kis tak pahuchi pata nahi...bohot sundar rachna Amitji.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you Shweta:) Glad you liked:)

      Delete
  11. Very nice... Yet, unlike humans, they may not even be aware or notice the prejudice...

    ReplyDelete