Followers

Sunday, 9 April 2017

नज़ारा..

                                         
Image from Google
                                   
हँसता हुआ गधा
दिख जाता है मुझे अक्सर
प्राधिकरण के दफ़्तर में
कचहरी में, सरकारी गलियारों में..

लदड़-फ़दड़ कछुआ
फाइलों का बोझ ढोता
मालिकों-अधिकारियों के
जूते खाता ; चलता जाता.

निढाल हिरन उदास
सूखी-पीली घास के पास
चतुर लोमड़ सलाम बजाता
ख़ूनी भेड़िया आँखें झपकाता

साँडों, भैंसों के रेवड़
कीचड़ में धँसे
निकलने की कोशिशों में
और फँसे और फँसे

इन सब से उदासीन
अँधेरे में पड़ा ख़ामोश
अजगर एक साँस खींचता
पल भर में सब को लीलता !

38 comments:

  1. It is not often I browse Blogger reading list Amit – but tonight I did, and fate has played its hand – for there were your wonderful words.

    I am certain your words lose something in (Google) translation, which wouldn’t be the case if you had translated your self. Nevertheless, their meanings are clear (although I am uncertain as to whether the view is that of the snake or your own eyes, the snake maybe?)

    Thank you for making me happy(er).

    Kind regards
    Anna :o]

    ReplyDelete
    Replies
    1. You're right Anna, Google translation cannot convey the essence:(
      While I regret my inability to translate the crux of this poem myself, I salute your spirit and enterprise in reaching the approximate thought behind:)
      The view can be interpreted either way..that of the python or an onlooker's..but since the poem is captioned as 'Nazaaraa' (meaning a scene) it is perhaps more suitable that this be seen form the eyes of a nonchalant spectator.
      Thank you for your interest and lovely comment, Anna:) Glad!

      Delete
  2. Replies
    1. धन्यवाद राजीव जी:)

      Delete
  3. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है http://rakeshkirachanay.blogspot.in/2017/04/14.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राकेश जी. आभार:)

      Delete
  4. Replies
    1. शुक्रिया हर्षिता... ख़ुशी हुई:)

      Delete
  5. वाह!!
    वाकई अजगर पलभर में सबको लीलता
    क्या फिर सरकारी गलियारों में अजगर का राज दिखेगा?
    ना जाने आगे फिर क्या होगा......

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये एक संयोग मात्र है कि कई महीने पहले लिखी गयी ये कविता आज के बदले हुए परिप्रेक्ष्य में ज़्यादा सामयिक प्रतीत होती है.
      .. लेकिन मैं इसे एक ताज़ी लिखी रचना कह कर झूठा नहीं बनाना चाहता/ बनना चाहता:)
      पसन्द करने के लिए अनेक धन्यवाद, सुधा जी:)
      (देखते हैं आगे क्या होता है हम तो एक असम्पृक्त दृष्टा हैं.. हा :) हा :))

      Delete
  6. आज के कुचक्र को ... राजनीती को ... समाज के माहोल को ... जानवरों के प्रतीकों के रूप में बेहतरीन माध्यम से कहा है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुचक्रीय राजनीतिक समाज... और कुचक्रीय सामाजिक राजनीति एक ही 'कम्बल'(!) के ताने-बाने हैं..!
      कविता और ख़याल की सराहना के लिए धन्यवाद दिगम्बर साहब:)

      Delete
  7. निढाल हिरन उदास
    सूखी-पीली घास के पास
    चतुर लोमड़ सलाम बजाता
    ख़ूनी भेड़िया आँखें झपकाता
    बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ !

    ReplyDelete
  8. वर्तमान का विकृत रूप और उस पर तीखा कटाक्ष , सन्नाटा अजगर जैसा ही होता है। न्यूनतम शब्दों में अर्थपूर्ण रचना का सृजन अमित जी की शैली का क़माल है। बधाई।

    ReplyDelete
    Replies
    1. Saraahnaa ke liye aapka tahedil se shukrguzaar hoon, Ravindra ji:)

      Delete
  9. ज़बरदस्त कटाक्ष!

    ReplyDelete
  10. I agree with the first comment. I also tried to translate and read. Then read original with little difficulty. But worth the pain. Today's fact.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you for your interest and effort, Ranjana:) Glad..!

      Delete
  11. It is largely true what you depict!

    ReplyDelete
  12. Replies
    1. I could have opined if I were in your office:):)

      Delete
  13. kya baat hai ji . aap to kamal ho kya wording hai ji aapki . very nice i like it

    ReplyDelete