Followers

Sunday, 22 September 2019

बेचारा

                                                           
Image from Google

वो सब चाँद को 
अंग्रेज़ी में निहार रहे हैं..
अनपढ़ है शायद 
कुछ झेंप रहा है 
चलो बेचारे को 
शर्मिन्दग़ी  से बचाएं 
कुछ देर के लिए 
ख़ामोश हो जाएँ 



10 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (24-09-2019) को     "बदल गया है काल"  (चर्चा अंक- 3468)   पर भी होगी।--
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद डॉ. शास्त्री:)

      Delete
  2. बहुत सुंदर पंक्तियाँ।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।
    iwillrocknow.com

    ReplyDelete
  3. वाह वाह, बहुत खूब

    ReplyDelete