Followers

Wednesday, 27 April 2016

Candor


Sultry stars taste like
Salty marshmallows
Nincompoop narcissus snails
Dive into lustrous mirage
Cerebral pachyderms thump
Their way into the mud
But pug-marks of golden felines
Are trailed
Heady whiff of Cashew groves
On the warm sea shore
Dries my hair.
Who strums my guitar ?

                                                          Linked to: Poets United



Monday, 11 April 2016

अवतार

Image from Google

                समर्पण: उन अनगिनत प्राणधारियों को जिन्हे इन्सान की क्रूरता अनेकों कारणों से मारे डाल रही है. 

"नाचेंगे, गायेंगे, रंग-जमायेंगे...
जन्नत उतारेंगे"

हाँ, प्रभु श्री (श्री)
पर आप ये भूल गए
कि हज़ारों चिड़ियाँ, मछलियाँ, कछुए,
लाखों कीट-पतंगे, केंचुए, मेंढक, टिड्डे
बिला वजह बेमौत मारे गए
बचे हुए बेघर-बर्बाद हो गए..

दुनियादार व्यापारियों की
ख़ुदग़र्ज़ी से तो शिक़ायत
होती हमें
पर प्रेम-आध्यात्म के अवतार
आप को हम करोड़ों
जीवात्माएँ कैसे माफ़ कर दें?

Saturday, 2 April 2016

ज्ञानी


तुम तो ज्ञानी
कैसे बूझोगे भला
दर्द पहेली

Saturday, 26 March 2016

हँसी-ख़ुशी


होठों पे हँसी
खोखली सब ख़ुशी
आँखें उदास


Wednesday, 23 March 2016

Climate

Image from Google

Loves the weather
Bougainvillea
Bears with climate!

Linked to: Poets United



Disclaimer: This is not a haiku

Sunday, 20 March 2016

यादें


खोली किताब 
हो गईं ताज़ा यादें 
सूखा गुलाब 
Image from Google



Thursday, 17 March 2016

St. Pine




Tresses  flowy,  swaying   beard,    
In meditation
perched on a cemetery, saintly Pine
centenarian!

                          
                                                                              Linked to: Poets United


Monday, 14 March 2016

रू-ब-रू


चलो अच्छा हुआ  हम
ख़यालों  में  लड़  लिए
होते जो रू--रू, नाहक़
तमाशे का  सबब बनते.

Tuesday, 8 March 2016

मुक्ताकाश


स्थूल रह गया नीचे
अस्तित्व छूट गया पीछे
और अब तो तू भी नहीं
सिर्फ़ मुक्ताकाश
अनंत शून्य. . चैतन्य.

कोई वासना, कामना,
शिक़ायत, प्रार्थना,
आभार ही.
कौन करे ?
किससे ?

क्षण निरन्तर नहीं
कैसे रोको उसे ?
आया और गया
घटना घट गयी
बस.. बात ख़त्म  हो गयी !
Image from Google

*This  poem is dedicated to Purba Chakraborty, whose ‘Paragliding…’ inspired me to write this on one of my out-of-body experiences in deep meditation in remote Himalayas.

*With apologies to my Guru who advises us not to share these…sorry Boss, the writer in me couldn’t resist the temptation of wording a part, and overpowered the seeker in me…can’t hide from You, You are omniscient! We err to be forgiven by Your benevolence.