Followers

Wednesday, 15 April 2015

कैनवस


रंगों नहाये
सफ़ेद कैनवस
दर्द उकेरे


छपाक


सूरज लाल
नीलाभ अलौकिक
सिंधु छपाक


दूल्हा


सजाओ दूल्हा
चढ़त की तैयारी
आज आखिरी 


Monday, 13 April 2015

कृष्ण


काम न क्रोध
मद लोभ न मोह
केवल कृष्ण


बात


रात की बात
चुपके से दिन से
कहती प्रात


बेचैनी


बेचैनी बन
मधुमक्षिका, बस
ढूँढे तुझ को


सच


जीवन सच
न था न कभी होगा
बस ये क्षण


Saturday, 11 April 2015

मौन


मौन संगीत
अनाहद का नाद
सुनो तो ज़रा


Key:
अनाहद = cosmic ‘sound’ of silence

नाद = echo 


मसरूफ़


यारों में घिरा
मसरूफ़ हमेशा
तनहा हूँ मैं

Key:
मसरूफ़  = busy

तनहा = lonely